Sunday, 22 May 2011

अतीत

क्या  करूँ  कि  तेरी  याद  ना  आये  मुझे  कभी,
कितना  हँसू कि  जख्म  ये  ना  रुलाये  मुझे  कभी ?

कितनी  आहटों  में  हर  पल  दिल  मशगूल रहता  है,
अब  कोई  ख़ामोशी  ना  सताए  मुझे  कभी

बुत  बन  गया  खुदा,कितना  खुशनसीब  है ?
तू  किसी  जान  का  एहसास  ना  कराये  मुझे  कभी

वो  मुझे  अब  भी  चाहता  है,मेरा  ऐतबार  करता  है,
ये  पहचानी  सी  बातें  कोई  ना  सुनाये  मुझे  कभी

तेरा  ज़िक्र ए बेवफाई  किसी  से  करूँगा  कैसे,
डर  है,कोई  बेवफा  ना  बताये  मुझे  कभी

-kumar                                                         

No comments: